संसद में छत से नहीं जमीन से जुड़े हैं पंखे, वजह है बड़ी रोचक?

Edited By prachi upadhyay, Updated: 27 Jul, 2019 03:55 PM

parliament of india history architecture interesting facts fans from floor

आपके-हमारे सबके घरों में पंखे तो लगे ही होते है, और कैसे लगे होते है, जाहिर है छत से नीचे की तरफ लटकते हुए। लेकिन, इस देश की संसद में पंखे उल्टे लगे है, यानी जमीन से ऊपर की तरफ।

नेशनल डेस्क: आपके-हमारे सबके घरों में पंखे तो लगे ही होते है, और कैसे लगे होते है, जाहिर है छत से नीचे की तरफ लटकते हुए। लेकिन, इस देश की संसद में पंखे उल्टे लगे है, यानी जमीन से ऊपर की तरफ। हैं ना दिलचस्प बात। तो अब आप ये जानना नहीं चाहेंगे कि हम किस देश की संसद का जिक्र कर रहे हैं। ये मजेदार बात किसी और की नहीं बल्कि हमारे अपने ही देश भारत की है। जी हां, हमारी संसद के सेंट्रल हॉल में उल्टे पंखे लगे हैं। अगर आप पार्लियामेंट के सेंट्रल हॉल की कोई तस्वीर या वीडियो देखें तो आप गौर करेंगे कि वहां पंखे उल्टे लगे हैं, यानी ये पंखे खंबे बनाकर उन पर उल्टे लटकाए गए हैं।

PunjabKesari

अब आप सोचेंगे कि इसके पीछे की वजह क्या है। दरअसल, इसके पीछे की वजह है इसका आर्किटेक्चर है। जब संसद भवन बनी तो इसके गुंबद को ही इसका मेन प्वाइंट माना गया, जिसकी वजह से उसे बहुत ऊंचा रखा गया। ये बात है साल 1921 की और अब उस वक्त तो एयर कंडीशनर होता नहीं था और सीलिंग ऊंची होने के कारण पंखे लगाना काफी मुश्किल था। वहीं बहुत ज्यादा लंबे डंडों के सहारे पंखे लगाने से संसद की खूबसूरती पर असर पड़ रहा था। ऐसे में खंबों पर पंखें लगाने की तरकीब सोची गई। फिर क्या था सेंट्रल हॉल की लंबाई को ध्यान में रखते हुए खंबे बनाए गए और उस पर उल्टे पंखे लगाए जिससे हॉल के कोने-कोने में उसकी हवा पहुंचे। हालांकि बाद में जब वहां एयर कंडीशनर लगाने की बात हुई तो संसद की ऐतिहासिकता को बनाए रखने के लिए इन पंखों को उल्टा ही लगे रहने दिया गया। जिससे पार्लियामेंट की खूबसूरती और ऐतिहासिकता बनी रहे।

PunjabKesari

गुम्बंद के पीछे भी एक दिलचस्प बात
अब जब आपने पखों के पीछे की कहानी जान ली तो आप ये भी जरूर सोच रहे होंगे कि आखिर निर्माण में इतने ऊंचे गुम्बंद की क्या जरूरत थी। तो इसके पीछे भी एक दिलचस्प बात है। क्या आपको मालूम है कि हमारे पार्लियामेंट का निर्माण के एक मंदिर के तर्ज पर हुआ है। सही पढ़ा आपने एक मंदिर के तर्ज पर, उस मंदिर का नाम है चौसठ योगिनी मंदिर। अब भारत में 4 चौसठ योगिनी मंदिर है दो उड़ीसा में और दो मध्य प्रदेश में, लेकिन मध्य प्रदेश के मुरैना में बने चौसठ योगिनी मंदिर सबसे प्रमुख और प्राचीन है। ये मंदिर अपनी शानदार वास्तुकला और खूबसूरत निर्माण के लिए जाना जाता है। शानदार वास्तुकला और बेहद खूबसूरती से बनाए गए यह मंदिर एक वृत्तीय आधार पर निर्मित है, और इसमें 64 कमरें हैं। हर कमरे में एक-एक शिवलिंग बना हुआ है। इस मंदिर तक पहुंचने के लिए करीब 200 सीढ़ियां चढ़नी होती हैं। वहीं इसके मध्य में एक खुला हुआ मण्डप है, जिसमें एक विशाल शिवलिंग है। यह मंदिर 1323 ई में बना था।

PunjabKesari

ब्रिटिश आर्किटेक्ट एडविन लुटियंस और हर्बर्ट बेकर ने इसी मंदिर को आधार मनाकर दिल्ली के संसद भवन का निर्माण कराया था। संसद भवन का पूरा आर्किटेक्चर इस मंदिर पर बेस्ड है। जिस तरह ये मंदिर एक वृत्तीय आधार और 101 खंभों पर टिका है। उसी तरह से संसद भवन का भी मुख्य आकर्षण उसका बेहद ऊंचा गुंबद और 144 खंभे हैं। हमारा संसद भवन देश की ऐतिहासिक धरोहर है। जो दुनिया के शानदार वास्‍तुकला के कुछ उत्‍कृष्‍ट नमूनों में से एक माना जाता है। तो अब जब भी आप दिल्ली आए संसद भवन जरूर देखें। जहां कुछ दिलचस्प बातों के साथ-साथ एक बेहद शानदार और भव्य आर्टिटेक्चर आपको देखने को मिलेगा।

Related Story

Trending Topics

Indian Premier League
Rajasthan Royals

Royal Challengers Bangalore

Match will be start at 27 May,2022 07:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!