भारतीय इंजीनियरिंग निर्यात में अक्टूबर में 18 प्रमुख बाजारों में सकारात्मक वृद्धि

Edited By jyoti choudhary,Updated: 28 Nov, 2023 03:09 PM

indian engineering exports show positive growth in 18 major markets in october

भारत के इंजीनियरिंग समान के निर्यात में अक्टूबर में 18 प्रमुख बाजारों में सकारात्मक वृद्धि दर्ज की गई। इंजीनियरिंग एक्सपोर्ट्स प्रमोशन काउंसिल (ईईपीसी) इंडिया ने यह जानकारी दी। ब्रिटेन, अमेरिका और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) को निर्यात में अक्टूबर में

कोलकाताः भारत के इंजीनियरिंग समान के निर्यात में अक्टूबर में 18 प्रमुख बाजारों में सकारात्मक वृद्धि दर्ज की गई। इंजीनियरिंग एक्सपोर्ट्स प्रमोशन काउंसिल (ईईपीसी) इंडिया ने यह जानकारी दी। ब्रिटेन, अमेरिका और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) को निर्यात में अक्टूबर में सकारात्मक वृद्धि दर्ज की गई। उद्योग निकाय के अनुसार, चीन, इटली, सिंगापुर और इंडोनेशिया उन देशों में शामिल हैं जहां अक्ट्रबर में इंजीनियरिंग निर्यात में गिरावट देखी गई। 

अमेरिका में इंजीनियरिंग निर्यात सालाना आधार पर 2.2 प्रतिशत की बढ़त के साथ 139.15 करोड़ अमेरिकी डॉलर रहा। पिछले वर्ष अक्टूबर में यह 136.1 करोड़ अमेरिकी डॉलर था। जर्मनी को अक्टूबर में निर्यात 20 प्रतिशत बढ़कर 34.27 करोड़ अमेरिकी डॉलर रहा। यूएई को इंजीनियरिंग समान का निर्यात सालाना आधार पर 2.9 प्रतिशत बढ़कर 34.86 करोड़ अमेरिकी डॉलर रहा। 

कुल मिलाकर अक्टूबर में भारत से इंजीनियरिंग निर्यात 7.2 प्रतिशत बढ़कर 809.42 करोड़ अमेरिकी डॉलर हो गया। पिछले वर्ष यह 755.069 करोड़ अमेरिकी डॉलर रहा था। अप्रैल से अक्टूबर 2023 तक संचयी इंजीनियरिंग निर्यात 1.61 प्रतिशत कम होकर 61.63 अरब अमेरिकी डॉलर रहा, जो पिछले साल समान अवधि में 62.63 अरब अमेरिकी डॉलर था। ईईपीसी इंडिया के चेयरमैन अरुण कुमार गरोडिया ने कहा कि धातु क्षेत्र, विशेष रूप से लोहा व इस्पात, एल्यूमीनियम तथा जस्ता उत्पादों के निर्यात में इस साल अक्टूबर में गिरावट देखी गई। ईईपीसी के अनुसार, अक्टूबर 2023 में कुल व्यापारिक निर्यात में भारत के इंजीनियरिंग समान की हिस्सेदारी 24.11 प्रतिशत रही। 
 

Related Story

Trending Topics

India

397/4

50.0

New Zealand

327/10

48.5

India win by 70 runs

RR 7.94
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!