पिछले दो महीने में श्वसन संक्रमण के अस्पतालों में भर्ती होने के 50 प्रतिशत मामले एच3एन2 के: सरकार

Edited By PTI News Agency,Updated: 24 Mar, 2023 06:00 PM

pti state story

नयी दिल्ली, 24 मार्च (भाषा) सरकार ने शुक्रवार को लोकसभा में कहा कि भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के एक सर्वे में सामने आया है कि पिछले दो महीने से अधिक समय में अस्पतालों में भर्ती होने के श्वसन संक्रमण के 50 प्रतिशत मामले...

नयी दिल्ली, 24 मार्च (भाषा) सरकार ने शुक्रवार को लोकसभा में कहा कि भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के एक सर्वे में सामने आया है कि पिछले दो महीने से अधिक समय में अस्पतालों में भर्ती होने के श्वसन संक्रमण के 50 प्रतिशत मामले एच3एन2 इनफ्लुएंजा के हैं।

स्वास्थ्य राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि एक जनवरी से 20 मार्च के बीच एच3एन2 के कुल 1,161 मामले आये हैं जो मौसमी इन्फ्लुएंजा वायरस का उपस्वरूप है।

उन्होंने कहा कि इनमें से अधिकतर मामलों में खांसी और बुखार के लक्षण हैं।

मंत्री ने कहा कि एच3एन2 वायरल श्वसन संक्रमण है और इसके उपचार में एंटीबायोटिक की कोई भूमिका नहीं है।

उन्होंने यह भी कहा कि किसी श्वसन संबंधी संक्रमण में कई बार बैक्टीरियल संक्रमण भी हो सकता है, इसलिए डॉक्टर एंटीबायोटिक दवा लेने की सलाह दे सकते हैं।

मंत्री ने जो आंकड़े जवाब में साझा किये, उसके अनुसार दिल्ली में एच3एन2 के सबसे ज्यादा 370 मामले दर्ज किये गये जिसके बाद महाराष्ट्र में 184, राजस्थान में 180 और कर्नाटक में 134 मामले हैं।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्रालय हालात पर नजर रख रहा है और एच3एन2 समेत इन्फ्लुएंजा मामलों के प्रबंधन में राज्यों तथा केंद्रशासित प्रदेशों का समर्थन करने के लिए कदम उठाये जा रहे हैं।

यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

Related Story

India

Australia

Match will be start at 08 Oct,2023 02:00 PM

img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!