भारत की उम्मीदों को झटका, मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण पर डोमिनिका कोर्ट ने लगाई रोक

Edited By jyoti choudhary, Updated: 28 May, 2021 11:51 AM

dominica court stays ban on extradition of mehul choksi

डोमिनिका में पकड़े गए पीएनबी घोटाले के आरोपी भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण की भारत की कोशिशों को फिलहाल झटका लगा है। डोमिनिका की एक अदालत ने चोकसी के प्रत्यर्पण पर रोक लगा दी है। चोकसी को क्यूबा भागने की कोशिश करते हुए गिरफ्तार किया...

बिजनेस डेस्कः डोमिनिका में पकड़े गए पीएनबी घोटाले के आरोपी भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण की भारत की कोशिशों को फिलहाल झटका लगा है। डोमिनिका की एक अदालत ने चोकसी के प्रत्यर्पण पर रोक लगा दी है। चोकसी को क्यूबा भागने की कोशिश करते हुए गिरफ्तार किया गया था। एंटीगुआ के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन ने चोकसी को वापस लेने से मना कर दिया था और डोमिनिका से उसे सीधे भारत भेजने का अनुरोध किया था लेकिन चोकसी के वकीलों ने इसका विरोध किया। 

यह भी पढ़ें- निफ्टी ने बनाया नया रिकॉर्ड, सेंसेक्स 300 अंक उछला, RIL और SBI के शेयरों में तेजी

वकीलों ने कोर्ट में कहा कि चोकसी को भारत नहीं भेजा जा सकता क्योंकि वह अब भारत का नागरिक नहीं है। चोकसी के वकीलों ने वहां बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की है। उनका कहना है कि चोकसी को कानूनी अधिकारों से वंचित कर दिया गया था और उसे शुरू में अपने वकीलों से मिलने की अनुमति नहीं दी गई थी। वहीं, डोमिनिका लिंकन कॉर्बेट के कार्यवाहक पुलिस प्रमुख ने कहा कि चोकसी को भारत नहीं बल्कि एंटीगा वापस भेजा जाएगा। चोकसी डोमिनिका पुलिस की कस्टडी में है और उससे पूछताछ की जा रही है।

यह भी पढ़ें- 12वीं बोर्ड परीक्षा पर सुप्रीम कोर्ट में टली सुनवाई, 31 मई को होगा फैसला

मारपीट का आरोप
इस बीच एएनआई के मुताबिक डोमिनिका में चोकसी के वकील वेन मार्श ने कहा, 'मैंने नोटिस किया कि मेहुल चोकसी को बुरी तरह पीटा गया था, उसकी आंखें सूजी हुई थीं और उसके शरीर पर कई जगह जले हुए निशान थे। उसने मुझे बताया कि एंटीगा के जॉली हार्बर में उसका अपहरण कर लिया गया था और उन लोगों द्वारा फिर डोमिनिका लाया गया था। चोकसी ने बताया कि वे लोग भारत के थे।'

यह भी पढ़ें- आज होगी GST काउंसिल की बैठक, वित्त मंत्री कई अहम फैसलों पर लगा सकती हैं मुहर

चोकसी और उसके भांजे नीरव मोदी ने पंजाब नेशनल बैंक से कथित तौर पर 13,500 करोड़ रुपए की जालसाजी की थी। नीरव मोदी लंदन में जेल में है और अपने प्रत्यर्पण के खिलाफ मुकदमा लड़ रहा है। चोकसी ने निवेश द्वारा नागरिकता प्राप्त करने के कार्यक्रम का इस्तेमाल करते हुए 2017 में एंटीगुआ और बारबुडा की नागरिकता ले ली थी और जनवरी 2018 के पहले सप्ताह में भारत से फरार होकर वहां चला गया था। बैंक से जालसाजी का मामला बाद में सामने आया था। चोकसी और नीरव दोनों सीबीआई जांच का सामना कर रहे हैं।

Related Story

Trending Topics

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!