नमक की बोरी में त्रिलोकपुर आई थी मां, पिंडी रूप में करती हैं मनोकामनाएं पूरी

Edited By Niyati Bhandari, Updated: 08 Jun, 2022 10:14 AM

maa bala sundari temple trilokpur himachal pradesh

हिमाचल प्रदेश के जिला मुख्यालय नाहन से लगभग 23 किलोमीटर की दूरी पर स्थित माहामाई त्रिपुर बाला सुन्दरी का लगभग साढ़े 300 वर्ष पुराना मंदिर तीर्थ स्थल एवं पर्यटन की दृष्टि से विशेष स्थान रखता है।

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Maa bala sundari temple trilokpur himachal pradesh: हिमाचल प्रदेश के जिला मुख्यालय नाहन से लगभग 23 किलोमीटर की दूरी पर स्थित माहामाई त्रिपुर बाला सुन्दरी का लगभग साढ़े 300 वर्ष पुराना मंदिर तीर्थ स्थल एवं पर्यटन की दृष्टि से विशेष स्थान रखता है। यहां पर चैत्र और अश्वनी मास के नवरात्रों में लगने वाले मेले की मुख्य विशेषता है कि किसी प्रकार की शोभा यात्रा या जुलूस नहीं निकाला जाता।

PunjabKesari Maa bala sundari temple trilokpur himachal pradesh

श्रद्धालुओं का विश्वास है कि इस पावन स्थली पर माता साक्षात रूप में विराजमान हैं और यहां पर की गई मनोकामना अवश्य पूरी होती है।

PunjabKesari Maa bala sundari temple trilokpur himachal pradesh

जनश्रुति के अनुसार महामाई बाला सुन्दरी उत्तर प्रदेश के जिला सहारनपुर में मुज्जफरनगर के देवबन्द नामक स्थान से नमक की बोरी में त्रिलोकपुर आई थीं।

PunjabKesari Maa bala sundari temple trilokpur himachal pradesh

कहा जाता है कि लाला रामदास जो सदियों पहले त्रिलोकपुर में नमक का व्यापार करते थे, उनके नमक की बोरी में माता उनके साथ यहां आई थीं।

PunjabKesari Maa bala sundari temple trilokpur himachal pradesh

लाला की दुकान त्रिलोकपुर में पीपल के वृक्ष के नीचे हुआ करती थी। उसने देवबन्द से लाया तमाम नमक दुकान में डाल दिया और बेचते गए मगर नमक समाप्त होने में नहीं आया।

PunjabKesari Maa bala sundari temple trilokpur himachal pradesh

लाला जी उस पीपल के वृक्ष को हर रोज सुबह जल दिया करते थे और पूजा करते थे। उन्होंने नमक बेचकर बहुत पैसा कमाया और चिन्ता में पढ़ गए कि नमक समाप्त क्यों नहीं हो रहा।

PunjabKesari Maa bala sundari temple trilokpur himachal pradesh

माता बाला सुन्दरी ने प्रसन्न होकर रात्रि को लाला जी के सपने में आकर दर्शन दिए और बोलीं, ‘‘भक्त मैं तुम्हारे भक्तिभाव से अति प्रसन्न हूं। मैं यहां पीपल के वृक्ष के नीचे पिण्डी रूप में स्थापित हो गई हूं और तुम यहां पर मेरा भवन बनाओ।’’ 

PunjabKesari Maa bala sundari temple trilokpur himachal pradesh

लाला जी को अब भवन निर्माण की चिन्ता सताने लगी। उसने फिर माता की अराधना की और आह्वान किया कि इतने बड़े भवन निर्माण के लिए मेरे पास सुविधाओं व धन का अभाव है। आप सिरमौर के महाराजा को भवन निर्माण का आदेश दें। 

PunjabKesari Maa bala sundari temple trilokpur himachal pradesh

माता ने अपने भक्त की पुकार सुन ली और उस समय के सिरमौर के राजा प्रदीप प्रकाश को सोते समय स्वप्न में दर्शन देकर भवन निर्माण का आदेश दिया। महाराजा ने तुरन्त जयपुर से कारीगरों को बुलाकर भवन निर्माण का कार्य आरंभ करवाया जो सन् 1630 में पूरा हुआ।   

PunjabKesari Maa bala sundari temple trilokpur himachal pradesh

Related Story

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!