ज्येष्ठ मास के मंगलवार को क्यों माना जाता है बड़ा, क्या आप जानते हैं?

Edited By Jyoti, Updated: 14 Jun, 2022 04:57 PM

bda mangal remedies upay in hindi

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ज्येष्ठ मास में पढ़ने वाला प्रत्येक मंगलवार बड़ा माना जाता है। जिसके उपलक्ष्य में इस दौरान पवनपुत्र हनुमान जी की पूजा करना भी अत्यंत लाभदायक माना जाता है। परंतु आखिर इस मास के मंगलवार को

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ज्येष्ठ मास में पढ़ने वाला प्रत्येक मंगलवार बड़ा माना जाता है। जिसके उपलक्ष्य में इस दौरान पवनपुत्र हनुमान जी की पूजा करना भी अत्यंत लाभदायक माना जाता है। परंतु आखिर इस मास के मंगलवार को बड़ा मंगलवार क्यों कहा जाता है। इस बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। तो चलिए जानते हैं इससे संबंधित जानकारी-
PunjabKesari Bda Mangal Upay, Jyeshtha Mangal Upay, Jyeshtha Purnima 2022, Bda Mangal 2022, Bda Mangal, Jyotish Shastra, Jyotish Gyan in Hindi, Bda Mangal Remedies Upay In Hindi, Dharm, Punjab Kesari
हिंदू धर्म  धार्मिक मान्यताओं के अनुसार हनुमान जी की प्रभु श्रीराम से पहली मुलाकात ज्येष्ठ माह में ही हुई थी। इसलिए इस मास के हर मंगलवार को बजरंगबली की पूजा करने से भक्तों के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं और जीवन से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है और धन और समृद्धि आती है।

बड़े मंगलवार को मनाने के पीछे एक और मान्यता के अनुसार, एक बार जाटमल व्यापारी ने स्वयं प्रकट हनुमान प्रतिमा से मन्नत मांगी थी कि अगर उसका इत्र और केसर बिक जाएगा तो वह हनुमानजी का भव्य मंदिर बनवाएंगे। नवाब वाजिद अली शाह ने कैसरबाग बसाने के लिए जाटमल से सारा इत्र और केसर खरीद लिया। इस तरह मन्नत पूरी होने पर जाटमल ने ज्येष्ठ के मंगलवार को हनुमान जी का भव्य मंदिर बनवाया। तब से ही लखनऊ में हर साल ज्येष्ठ माह के प्रत्येक मंगलवार को बड़ा मंगल मनाया जाता है।
PunjabKesari Bda Mangal Upay, Jyeshtha Mangal Upay, Jyeshtha Purnima 2022, Bda Mangal 2022, Bda Mangal, Jyotish Shastra, Jyotish Gyan in Hindi, Bda Mangal Remedies Upay In Hindi, Dharm, Punjab Kesari
एक अन्य मान्यता के अनुसार, बड़े मंगलवार के पर्व को हिंदू और मुस्लिम दोनों धर्म के लोग मनाते हैं। कहते हैं कि बड़े मंगल का प्रारंभ 400 वर्ष पूर्व अवध के नवाब द्वारा किया गया था। इसके पीछे की कहानी यह है कि एक बार नवाब मोहम्मद अली शाह के पुत्र बहुत बीमार पड़ गए। तब उनकी बेगम ने अपने पुत्र का इलाज कई जगह करवाया परंतु कोई लाभ नहीं हुआ। इसके पश्चात लोगों ने बेगम को अपने पुत्र की कुशलता के लिए लखनऊ के अलीगंज में स्थित एक प्राचीन हनुमान मंदिर में जाने और वहां मन्नत मांगने की सलाह दी। नवाब ने वैसा ही किया और उसके मन्नत के फलस्वरूप नवाब मोहम्मद अली शाह का बेटा भी पूर्ण रूप से स्वस्थ हो गया। इसके बाद फिर नवाब और उनकी बेगम ने मिलकर उस हनुमान मंदिर की पूरी मरम्मत करवाई। मरम्मत कार्य के पूर्ण होने के बाद ज्येष्ठ महीने की तपती गर्मी में हर मंगलवार को शहर वासियों को पानी और गुड़ का वितरण करवाया गया। इसके बाद से ही वहां बड़ा मंगल मनाया जाने लगा।

बताते चलें, भारत में ज्येष्ठ माह में पड़ने वाले हर मंगलवार मंदिरों में खास रौनक देखने को मिलती है। भक्त हनुमान जी के दर्शन के लिए मंदिर में जाते हैं और विशेष पूजा अर्चना करते हैं। इस दिन भगवान हनुमान की विधिवत पूजा करनी चाहिए। हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। कई लोग इस दिन व्रत भी रखते हैं। बूंदी के लड्डू या बूंदी का प्रसाद चढ़ाना चाहिए। इससे संतान संबंधी परेशानी दूर होती हैं। ॐ हं हनुमंतये नम: मंत्र का जाप करने से हनुमान जी प्रसन्न होते हैं। ॐ हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट का रुद्राक्ष की माला से जाप करने से भी हनुमान जी बहुत प्रसन्न होते हैं। बजरंगबली को समर्पित बड़ा मंगल के दिन श्री हनुमान जी को पूरी श्रद्धा भक्ति के साथ चना, गुड़, मीठी पूड़ी आदि का प्रसाद चढ़ना चाहिए। अगर आपकी कोई विशेष मनोकामना है जो पूरी नहीं हो रही है तो आप इस दिन हनुमान जी को चमेली के तेल में पीला सिंदूर मिलाकर लगाना चाहिए। 
PunjabKesari Bda Mangal Upay, Jyeshtha Mangal Upay, Jyeshtha Purnima 2022, Bda Mangal 2022, Bda Mangal, Jyotish Shastra, Jyotish Gyan in Hindi, Bda Mangal Remedies Upay In Hindi, Dharm, Punjab Kesari

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!