अनसंग हीरोज की कहानी है ‘द रेलवे मैन’, मार्मिक ढंग से दिखाई त्रासदी

Updated: 29 Nov, 2023 10:17 AM

the railway man  is the story of unsung heroes

‘द रेलवे मैन’ के निर्देशक और स्टारकास्ट ने की ‘पंजाब केसरी’ ग्रुप के साथ खास बातचीत

नई दिल्ली,टीम डिजिटल। साल 1984 में हुई भोपाल गैस त्रासदी की पृष्ठभूमि पर बनी वैब सीरीज ‘द रेलवे मैन’ 18 नवम्बर को नैटफ्लिक्स पर रिलीज हो गई है, जिसे दर्शक बेहद पसंद कर रहे हैं। शिव रवैल द्वारा निर्देशित इस सीरीज में भोपाल में हुए जहरीली गैस के रिसाव के हादसे और प्रभाव को बेहद मार्मिक ढंग से दिखाया गया है। साथ ही उन अनसंग हीरोज की कहानी भी इसमें दिखाई गई है, जो अपनी जान की परवाह किए बगैर भोपाल के लोगों की मदद के लिए आगे आए। सीरीज में आर. माधवन, के.के. मेनन, दिव्येंदु शर्मा, बाबिल खान, जूही चावला और सनी हिंदुजा जैसे शानदार कलाकार हैं। इस बारे में ‘द रेलवे मैन’ के निर्देशक और स्टारकास्ट ने पंजाब केसरी/नवोदय टाइम्स/जगबाणी/हिंद समाचार से खास बातचीत की-

शिव रवैल

आपको उम्मीद थी कि जिन एक्टर्स को आपने किरदारों के रूप में सोचा था, वह इसके लिए मान जाएंगे?
-मुझे नहीं पता था कि सब लोग हां कर देंगे। इसके लिए मैं और के.के. सर लगभग एक जैसा और एक समय पर ही सोच रहे हैं। हम सब साथ में मिलकर तय करते थे कि किसको किस किरदार के लिए लें। हम पूरी तरह से सभी के लिए अनश्योर थे। फिर सोचते थे कि चलो, एक चांस ले लें और देखिए किस्मत से वे सभी लोग अपने-अपने किरदार में बिल्कुल परफैक्ट लग रहे हैं।  


आपने इस प्रोजैक्ट पर कितने साल काम किया?
-मैंने इसकी स्क्रिप्ट पर दो साल काम किया है और यह सब कुछ काफी मुश्किल था। इसके लिए मैं कहना चाहूंगा कि कभी-कभी आपको किसी काम को करने के लिए जिद्दी होना पड़ता है। अगर आप वह नहीं बन पाते तो कुछ काम रह जाते हैं। यह सीरीज भी कुछ इस तरह ही थी, जिसके लिए जिद्दी बनना पड़ा। 

के.के. मेनन

आपका इतनी अच्छी एक्ंिटग करने का सीक्रेट क्या है?
-यह उस इंसान की खूबी है, जिसकी मैं एक्ंिटग करता हूं। मैं अपनी पूरी कोशिश करता हूं किरदार में खोने की और उसकी सच्चाई को बिल्कुल उसी ढंग से पेश करने की, जैसे उसे देखा गया है। इसके लिए मुझे जो भी भूमिका निभानी होती है, उसके लिए मैं खुद को पहले तैयार कर लेता हूं। 

दिव्येंदु शर्मा

आपने यह रोल क्यों किया और के.के. की किस बात से आप प्रेरित हुए?
-मैं हर चीज को लेकर उनसे इंस्पायर हुआ हूं। वह जिस तरह से अपने किरदार में ढलते हैं, फिर उसे स्क्रीन पर परफॉर्म करते हैं। वहीं, अगर मैं अपने किरदार की बात करूं तो बलवंत बहुत रीयल इंसान है। उसकी विभिन्न परिस्थितियों में अलग-अलग शेड्स हैं। ह्यूमन लैवल पर बलवंत बहुत अच्छा है।

सनी हिंदुजा

सीरीज में आपने पत्रकार का किरदार निभाया है। इसका अनुभव कैसा रहा?
-पत्रकार होने के नाते मैं सबसे पहले यह कहना चाहता हूं कि आप पर यह एक बड़ी जिम्मेदारी होती है कि जो भी तुम जनता तक पहुंचा रहे हो, उनको दिखा रहे हो, वह उस पर विश्वास करें। यह चीज सीरीज में बहुत छोटे लैवल पर दिखाई गई है। इसके अलावा उस त्रासदी में कितने सारे लोगों ने छोटे-छोटे लैवल पर काम किया होगा, जो पत्रकार भी नहीं होंगे। इससे मैंने सीखा कि कई बार आप अकेले ही सब कुछ नहीं होते हो। अपने अलावा दूसरों के बारे में भी हमें सोचना चाहिए।  


जर्नलिस्ट का किरदार करके आपको कैसा महसूस हुआ?
-मुझे सब पत्रकारों का नहीं पता लेकिन सीरीज में मैंने जो किरदार निभाया है, वह आर्मी के फौजी की तरह है। वह लोगों की भलाई के लिए अपना सब कुछ न्यौछावर कर देता है। फिर वह तक नहीं सोचता कि उसके काम की सराहना की जाएगी या नहीं।

Related Story

Afghanistan

134/10

20.0

India

181/8

20.0

India win by 47 runs

RR 6.70
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!