शेयर बाजारों में रहेगा उतार-चढ़ाव, घरेलू कारकों से तय होगी दिशा

Edited By jyoti choudhary, Updated: 06 Feb, 2022 10:39 AM

there will be volatility in the stock markets the direction will be decided

शेयर बाजारों में इस सप्ताह काफी उतार-चढ़ाव रहने के आसार हैं। सप्ताह के दौरान बाजारों की दिशा रिजर्व बैंक की मौद्रिक समीक्षा और कुछ बड़ी कंपनियों के तिमाही नतीजों से तय होगी। विश्लेषकों ने यह राय जताई है। विश्लेषकों ने कहा कि इसके अलावा बाजार के...

नई दिल्लीः शेयर बाजारों में इस सप्ताह काफी उतार-चढ़ाव रहने के आसार हैं। सप्ताह के दौरान बाजारों की दिशा रिजर्व बैंक की मौद्रिक समीक्षा और कुछ बड़ी कंपनियों के तिमाही नतीजों से तय होगी। विश्लेषकों ने यह राय जताई है। विश्लेषकों ने कहा कि इसके अलावा बाजार के निवेशकों की निगाह रुपए के उतार-चढ़ाव, ब्रेंट कच्चे तेल के दाम और विदेशी संस्थागत निवेशकों के रुख पर भी रहेगी। 

रेलिगेयर ब्रोकिंग के उपाध्यक्ष शोध अजित मिश्रा ने कहा, ‘‘महत्वपूर्ण घटनाक्रमों के बीच बाजार भागीदारों की नजर इस सप्ताह मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की नीतिगत समीक्षा बैठक पर होगी। इसका बैठक के नतीजें नौ फरवरी को आएंगे। इसके अलावा वृहद आर्थिक मोर्चे पर 11 फरवरी को औद्योगिक उत्पादन (आईआईपी) के आंकड़े आने हैं।’’ मिश्रा ने कहा, ‘‘सप्ताह के दौरान भारती एयरटेल, जिंदल स्टील, एसीसी, हीरो मोटोकॉर्प, टाटा पावर, हिंडाल्को और महिंद्रा एंड महिंद्रा सहित कई बड़ी कंपनियों के तिमाही नतीजे भी आने हैं।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘बाजारों में उतार-चढ़ाव देखा जा रहा है, जो वैश्विक रुझानों के अनुरूप है। यह निकट भविष्य में भी जारी रह सकता है।’’ सप्ताह के दौरान टीवीएस मोटर कंपनी, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, आईआरसीटीसी, एनएमडीसी और सेल भी अपने तिमाही नतीजों की घोषणा करेंगी।

स्वस्तिका इन्वेस्टमार्ट के शोध प्रमुख संतोष मीणा ने कहा, ‘‘इस हफ्ते घरेलू संकेतक बाजार को दिशा देंगे। सभी की निगाह नौ फरवरी को रिजर्व बैंक की मौद्रिक समीक्षा बैठक के नतीजों पर रहेगी। इसके अलावा कंपनियों के तीसरी तिमाही के नतीजे बाजार की दृष्टि से महत्वपूर्ण रहेंगे। शुक्रवार को आईआईपी की घोषणा होगी। हालांकि, यह आंकड़ा बाजार बंद होने के बाद जारी किया जाएगा।’’ 

मीणा ने आगे कहा कि वैश्विक संकेतक भी स्पष्ट नहीं हैं। भू-राजनीतिक स्थिति महत्वपूर्ण है, जबकि कच्चे तेल के दाम बढ़ना हमारे लिए एक प्रमुख चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि एफआईआई अभी भी बिकवाली के मूड में हैं। उनका रुख भी बाजार को दिशा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। विश्लेषकों ने कहा कि पिछले सप्ताह के शुरुआती दिनों में बाजार में तेजी उम्मीदों के अनुरूप थी। बीते सप्ताह बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 1,444.59 अंक यानी 2.52 प्रतिशत चढ़ा था। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘इस सप्ताह रिजर्व बैंक की नीतिगत बैठक घरेलू निवेशकों के लिए एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम है। इस बैठक के नतीजे का सभी को इंतजार रहेगा।’’ 

Related Story

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!