Shardiya Navratri 2020: थावे दुर्गा मंदिर में होती हैं श्रद्धालुओं की सभी मनोकामनाएं पूरी

Edited By Jyoti,Updated: 21 Oct, 2020 12:55 PM

shardiya navratri 2020

गोपालगंज: बिहार में गोपालगंज जिले के थावे दुर्गा मंदिर में सच्चे मन से पूजा-अर्चना करने वाले भक्तों और श्रद्धालुओं की मनोकामनाएं पूरी होती है। गोपालगंज के सुप्रसिद्ध थावे दुर्गा मंदिर दो तरफ से जंगलों से घिरा है और इस मंदिर का गर्भगृह काफी पुराना है।

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
गोपालगंज:
बिहार में गोपालगंज जिले के थावे दुर्गा मंदिर में सच्चे मन से पूजा-अर्चना करने वाले भक्तों और श्रद्धालुओं की मनोकामनाएं पूरी होती है। गोपालगंज के सुप्रसिद्ध थावे दुर्गा मंदिर दो तरफ से जंगलों से घिरा है और इस मंदिर का गर्भगृह काफी पुराना है। इस मंदिर में नेपाल, उत्तर प्रदेश, बिहार के कई जिले से श्रद्धालु पूजा-अर्चना एवं दर्शन करने आते हैं। वैसे यहां सालों भर भक्तों की कतार लगी रहती है, लेकिन चैत्र और शारदीय नवरात्र में पूजा करने का विशेष महत्व है। नवरात्रि के नौ दिनों में यहां विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। नवरात्र में यहां खास मेला भी लगाया जाता है। इसके अलावा इस मंदिर में सोमवार और शुक्रवार को विशेष पूजा होती है। सावन के महीने में भी मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। इस मंदिर को लोग थावे वाली माता का मंदिर, सिंहासिनी भवानी के नाम से भी जानते हैं। यहां नवरात्र में पशुबलि देने की भी परम्परा है। लोग मां के दरबार में खाली हाथ आते हैं लेकिन मां के आशीर्वाद से भक्तों की सारी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। थावे दुर्गा मंदिर को सिद्धपीठ माना जाता है।
PunjabKesari, Shardiya Navratri 2020, Shardiya Navratri, Navratri, Thawe Durga Mandir,  Rikhai Tola Thawe Durga Mandir, Bihar Thawe Durga Mandir, बिहार थावे दुर्गा मंदिर, Dharmik Sthal, Religious Place in india, Dharmik Sthal, History of Thawe Durga Mandir
थावे दुर्गा मंदिर की स्थापना की कहानी काफी रोचक है। चेरो वंश के राजा मनन सिंह खुद को मां दुर्गा का बड़ा भक्त मानते थे, तभी अचानक उस राजा के राज्य में अकाल पड़ गया। उसी दौरान थावे में माता रानी का एक भक्त रहषु था। रहषु के द्वारा पटेर को बाघ से दौनी करने पर चावल निकलने लगा। यही वजह थी कि वहां के लोगों को खाने के लिए अनाज मिलने लगा। यह बात राजा तक पहुंची लेकिन राजा को इस बात पर विश्वास नहीं हो रहा था। राजा रहषु के विरोध में हो गया और उसे ढोंगी कहने लगा और उसने रहषु से कहा कि मां को यहां बुलाओ। इस पर रहषु ने राजा से कहा कि यदि मां यहां आईं तो राज्य को बर्बाद कर देंगी लेकिन राजा नहीं माना। रहषु भगत के आह्वान पर देवी मां कामाख्या से चलकर पटना और सारण के आमी होते हुए गोपालगंज के थावे पहुंची। राजा के सभी भवन गिर गए। इसके बाद राजा मर गया।        
PunjabKesari, Shardiya Navratri 2020, Shardiya Navratri, Navratri, Thawe Durga Mandir,  Rikhai Tola Thawe Durga Mandir, Bihar Thawe Durga Mandir, बिहार थावे दुर्गा मंदिर, Dharmik Sthal, Religious Place in india, Dharmik Sthal, History of Thawe Durga Mandir
एक अन्य मान्यता के अनुसार, हथुआ के राजा युवराज शाही बहादुर ने वर्ष 1714 में थावे दुर्गा मंदिर की स्थापना उस समय की जब वे चंपारण के जमींदार काबुल मोहम्मद बड़हरिया से दसवीं बार लड़ाई हारने के बाद फौज सहित हथुआ वापस लौट रहे थे। इसी दौरान थावे जंगल मे एक विशाल वृक्ष के नीचे पड़ाव डाल कर आराम करने के समय उन्हें अचानक स्वप्न में मां दुर्गा दिखीं। स्वप्न में आये तथ्यों के अनुरूप राजा ने काबुल मोहम्मद बड़हरिया पर आक्रमण कर विजय हासिल की और कल्याण पुर, हुसेपुर, सेलारी, भेलारी, तुरकहा और भुरकाहा को अपने राज के अधीन कर लिया। विजय हासिल करने के बाद उस वृक्ष के चार कदम उत्तर दिशा में राजा ने खुदाई कराई, जहां दस फुट नीचे वन दुर्गा की प्रतिमा मिली और वहीं मंदिर की स्थापना की गई। थावे दुर्गा मंदिर के मुख्य पुजारी सुरेश पांडेय ने और धार्मिक न्यास बोर्ड के सचिव तथा गोपालगंज अनुमंडल पदाधिकारी उपेन्द्र कुमार पाल ने बताया कि कोरोना को लेकर नये गाइडलाइन के अनुसार भक्तों और श्रद्धालुओं के लिये मंदिर का कपाट फिलहाल बंद रखा गया है। प्रतिदिन माताजी का श्रृंगार और भोग लगाया जाता है।
PunjabKesari, Shardiya Navratri 2020, Shardiya Navratri, Navratri, Thawe Durga Mandir,  Rikhai Tola Thawe Durga Mandir, Bihar Thawe Durga Mandir, बिहार थावे दुर्गा मंदिर, Dharmik Sthal, Religious Place in india, Dharmik Sthal, History of Thawe Durga Mandir

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!