Nirjala ekadashi vrat katha: आज अवश्य पढ़ें, निर्जला एकादशी व्रत कथा

Edited By Niyati Bhandari, Updated: 10 Jun, 2022 07:55 AM

story of nirjala ekadashi fast

एक बार पाण्डु पुत्र भीमसेन ने श्रील वेदव्यास जी से पूछा," हे परमपूजनीय विद्वान पितामह! मेरे परिवार के सभी लोग एकादशी व्रत करते हैं व मुझे भी करने के लिए

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Nirjala ekadashi vrat katha: एक बार पाण्डु पुत्र भीम सेन ने श्रील वेदव्यास जी से पूछा," हे परम पूजनीय विद्वान पितामह! मेरे परिवार के सभी लोग एकादशी व्रत करते हैं व मुझे भी करने के लिए कहते हैं। किन्तु मुझ से भूखा नहीं रहा जाता। आप कृपा करके मुझे बताएं कि उपवास किए बिना एकादशी का फल कैसे मिल सकता है?"

PunjabKesari Nirjala ekadashi vrat katha

श्रील वेदव्यास जी बोले,"पुत्र भीम! यदि आपको स्वर्ग बड़ा प्रिय लगता है, वहां जाने की इच्छा है और नरक से डर लगता है तो हर महीने की दोनों एकादशी को व्रत करना ही होगा।"

PunjabKesari Nirjala ekadashi vrat katha

भीम सेन ने जब ये कहा कि यह उनसे नहीं हो पाएगा तो श्रील वेद व्यास जी बोले,"ज्येष्ठ महीने के शुल्क पक्ष की एकादशी को व्रत करना। उसे निर्जला कहते हैं। उस दिन अन्न तो क्या, पानी भी नहीं पीना। एकादशी के अगले दिन प्रातः काल स्नान करके, स्वर्ण व जल दान करना। वह करके पारण के समय (व्रत खोलने का समय) ब्राह्मणों व परिवार के साथ अन्नादि ग्रहण करके अपने व्रत को विश्राम देना। जो एकादशी तिथि के सूर्योदय से द्वादशी तिथि के सूर्योदय तक बिना पानी पीए रहता है तथा पूरी विधि से निर्जला व्रत का पालन करता है, उसे साल में जितनी एकादशियां आती हैंं उन सब एकादशियों का फल इस एक एकादशी का व्रत करने से सहज ही मिल जाता है।"

PunjabKesari Nirjala ekadashi vrat katha

यह सुनकर भीम सेन उस दिन से इस निर्जला एकादशी के व्रत का पालन करने लगे और वे पाप मुक्त हो गए। इस एकादशी को पांडव एकादशी, भीम एकादशी, भीमसेनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। 

PunjabKesari Nirjala ekadashi vrat katha

Related Story

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!