ब्रिक्स देशों के विदेश मंत्रियों की बृहस्पतिवार को होने वाली बैठक में हिस्सा लेंगे जयशंकर

Edited By PTI News Agency, Updated: 18 May, 2022 10:55 PM

pti international story

बीजिंग, 18 मई (भाषा) चीन बृहस्पतिवार को वीडियो लिंक के माध्यम से ब्रिक्स देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक की मेजबानी करेगा, जिसमें विदेश मंत्री एस जयशंकर पांच सदस्यीय समूह के अपने समकक्षों के साथ हिस्सा लेंगे। यह जानकारी एक शीर्ष चीनी...

बीजिंग, 18 मई (भाषा) चीन बृहस्पतिवार को वीडियो लिंक के माध्यम से ब्रिक्स देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक की मेजबानी करेगा, जिसमें विदेश मंत्री एस जयशंकर पांच सदस्यीय समूह के अपने समकक्षों के साथ हिस्सा लेंगे। यह जानकारी एक शीर्ष चीनी अधिकारी ने बुधवार को दी।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने कहा कि जयशंकर के अलावा, दक्षिण अफ्रीका की अंतरराष्ट्रीय संबंध एवं सहयोग मंत्री नलेदी पंडोर, ब्राजीली विदेश मंत्री कार्लोस फ्रांका और रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव भी बैठक में हिस्सा लेंगे। इस बैठक की अध्यक्षता चीन के स्टेट काउंसलर एवं विदेश मंत्री वांग यी करेंगे।

वेनबिन ने यहां एक प्रेस वार्ता में बताया कि बैठक के दौरान, ब्रिक्स देशों के विदेश मंत्री उभरते बाजारों और विकासशील देशों के अपने समकक्षों के साथ ‘‘ब्रिक्स प्लस’’ संवाद करेंगे। उन्होंने हालांकि, ‘‘ब्रिक्स प्लस’’ वार्ता में भाग लेने वाले देशों के नामों का खुलासा नहीं किया। पूर्व में बांग्लादेश, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई), उरुग्वे और मिस्र को पहले ब्रिक्स न्यू डेवलपमेंट बैंक (एनडीबी) के सदस्यों के रूप में स्वीकार किया गया था, जिससे बैंक की वैश्विक पहुंच का विस्तार हुआ है।
चीन इस साल ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, भारत, चीन, दक्षिण अफ्रीका) की अध्यक्षता कर रहा है।

ब्रिक्स देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक को लेकर चीन की अपेक्षाओं के बारे में, वांग वेनबिन ने कहा कि बैठक एकता का ‘‘स्पष्ट संदेश’’ देगी और पांच सदस्यीय समूह के वार्षिक शिखर सम्मेलन की तैयारी करेगी।

उन्होंने कहा, ‘‘हम ब्रिक्स देशों को एकजुटता के साथ काम करने, सच्चे बहुपक्षवाद को बनाए रखने, कोविड-19 से लड़ने में एकजुट रहने और शांतिपूर्ण विकास को बढ़ावा देने का स्पष्ट संदेश देंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हम ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के लिए अच्छी तैयारी करेंगे।’’ इस साल का शिखर सम्मेलन यूक्रेन के खिलाफ रूस के सैन्य हमले के साये में हो रहा है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ‘‘ ब्रिक्स उभरते बाजारों और वैश्विक प्रभाव वाले विकासशील देशों का एक सहयोग तंत्र है।’’
उन्होंने कहा कि विदेश मंत्रियों की बैठक का प्रस्ताव चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 2017 में चीन के पांच सदस्यीय समूह की अध्यक्षता के दौरान किया था।

वांग वेनबिन ने इस बात पर जोर दिया कि ब्रिक्स नेताओं के रणनीतिक नेतृत्व में, विदेश मंत्रियों की बैठकों ने राजनीतिक आपसी विश्वास को मजबूत करने और पांच देशों के बीच सुरक्षा सहयोग को गहरा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है।

उन्होंने कहा कि 2022 के लिए ब्रिक्स अध्यक्ष के रूप में, चीन अंतरराष्ट्रीय स्थिति और प्रमुख अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय मुद्दों में नयी चुनौतियों पर ब्रिक्स सहयोगियों के साथ संचार और समन्वय बढ़ाने के लिए तत्पर है।

उन्होंने कहा, ‘‘इस साल की विदेश मंत्रियों की बैठक से इतर हम ‘‘ब्रिक्स प्लस’’ वार्ता भी करेंगे, जहां ब्रिक्स के विदेश मंत्री वैश्विक शासन पर कुछ उभरते बाजारों और विकासशील देशों के विदेश मंत्रियों के साथ विचारों का आदान-प्रदान करेंगे।’’ वांग वेनबिन ने कहा कि ऐसा माना जाता है कि यह संवाद एकजुटता, राजनीतिक सहमति को और बढ़ाएगा और उभरते बाजारों और विकासशील देशों को वैश्विक शासन में एक बड़ा अधिकार प्रदान करेगा, ताकि साझा हितों की बेहतर सुरक्षा हो सके।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

Related Story

India

179/5

20.0

South Africa

131/10

19.1

India win by 48 runs

RR 8.95
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!