Chaitra Vinayaka Chaturthi: आज इस शुभ मुहूर्त में लगाएं तिलक, अधूरे काम होंगे पूरे

Edited By Niyati Bhandari,Updated: 25 Mar, 2023 08:15 AM

vinayaka chaturthi

आज चैत्र नवरात्रि का चौथा दिन है, नवदुर्गा की चौथी शक्ति मां कूष्मांडा की पूजा होगी। उसके साथ-साथ गणेश जी को समर्पित विनायक चतुर्थी भी है। चैत्र माह में होने के कारण इसका महत्व और भी बढ़ जाता है। गौरी पुत्र गणेश और मां कूष्मांडा

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Chaitra Vinayak Chaturthi 2023: आज चैत्र नवरात्रि का चौथा दिन है, नवदुर्गा की चौथी शक्ति मां कूष्मांडा की पूजा होगी। उसके साथ-साथ गणेश जी को समर्पित विनायक चतुर्थी भी है। चैत्र माह में होने के कारण इसका महत्व और भी बढ़ जाता है। गौरी पुत्र गणेश और मां कूष्मांडा की आराधना एक साथ होगी।

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं। अपनी जन्म तिथि अपने नाम, जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर व्हाट्सएप करें
PunjabKesari Vinayaka Chaturthi

Chaitra Vinayak Chaturthi 2023 Muhurat चैत्र विनायक चतुर्थी मुहूर्त 2023: चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि का शुभ आरंभ 24 मार्च 2023 शुक्रवार की शाम 04 बजकर 59 मिनट से होगा और तिथि का विश्राम 25 मार्च 2023 शनिवार की शाम 04 बजकर 23 मिनट पर होगा।

गणेश जी की पूजा का शुभ समय: प्रात: 11 बजकर 16 मिनट से लेकर दोपहर 01.43  तक रहेगा।

PunjabKesari Vinayaka Chaturthi

Chaitra Vinayak Chaturthi 2023 Bhadra Kaal Time चैत्र विनायक चतुर्थी पर भद्रा का साया: चैत्र महीने की विनायक चतुर्थी पर भद्रा का साया मंडरा रहा है। 25 मार्च 2023 को भद्रा सुबह 04.35 मिनट पर शुरू होगी, शाम 04.23 पर समाप्त होगी। आमतौर पर भद्रा को अमंगलकारी माना जाता है लेकिन आज भद्रा स्वर्ग लोक में भ्रमण करेंगी इसलिए धरती पर इनका कोई भी प्रभाव नहीं रहेगा। गणेश जी की पूजा सदा ही मंगलकारी होती है, भद्रा से किसी भी तरह का कोई अवरोध पैदा नहीं होगा।

विनायक चतुर्थी पर ऐसे करें गणेश जी और मां कूष्मांडा को प्रसन्न: लोक किवंदती के अनुसार गणेश जी ने बाल्यकाल में सिंदूर नाम के दैत्य का संहार किया था। उसका रक्त अपने पूरे शरीर पर लगा लिया। उसी दिन से गणेश जी को लाल सिंदूर अच्छा लगने लग गया। सिन्‍दूर को मंगल का प्रतीक माना जाता है। गणेश जी और मां कूष्मांडा को सूखे लाल रंग के सिंदूर का तिलक लगाएं और इस मंत्र का जाप करें-

मंत्र: सिन्दूरं शोभनं रक्तं सौभाग्यं सुखवर्धनम्। शुभदं कामदं चैव सिन्दूरं प्रतिगृह्यताम्॥

अब स्वयं भी लाल रंग का तिलक लगाएं।

विनायक चतुर्थी के दिन लाल रंग का तिलक लगाने से बप्पा का आशीर्वाद सदा बना रहता है, बुरी नजर से रक्षा होती है। घर में सुख-समृद्धि का वास होता है और सभी अधूरे काम पूरे होते हैं।

PunjabKesari kundli

Related Story

Afghanistan

134/10

20.0

India

181/8

20.0

India win by 47 runs

RR 6.70
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!