Lok Sabha Election 2024 : इन चार वर्गों से खेला PM मोदी ने मास्टर स्ट्रोक, 2024 के लिए खोला जीत का रास्ता

Edited By Parveen Kumar,Updated: 04 Dec, 2023 06:59 PM

modi played stroke with these four classes

भारत के हर कोने-कोने में भाजपा की इस बड़ी जीत का जश्न पार्टी कार्यकर्ता मना रहे है। राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में बीजेपी ने शानदार जीत हासिल की है और तेलंगाना में उसका प्रदर्शन बेहतर हुआ है।

नेशनल डेस्क : भारत के हर कोने-कोने में भाजपा की जीत का जश्न कार्यकर्ता मना रहे है। राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में बीजेपी ने शानदार जीत हासिल की है और तेलंगाना में उसका प्रदर्शन बेहतर हुआ है। तीन राज्यों में सरकार आने के बाद पीएम मोदी भाजपा मुख्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया और उसकी अगली सुबह संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन सोमवार पीएम मोदी ने कहा कि राजनीतिक गर्मी बड़ी तेजी से बढ़ रही है।

इन राज्यों के नतीजों से साफ हो गया है कि लोकसभा चुनाव के लिए विपक्षीयों को कड़ी मेहनत करनी पडेगी। सियासी गलियारों में चर्चाएं इस बात की हो रही हैं कि बिहार में जातिगत जनगणना के आधार पर लिए गए बड़े फैसले और अखिलेश यादव के पीडीए जैसे फॉर्मूले पर बिसात बिछाने वाली लोकसभा की सियासत में मोदी की ये चार जातियां क्या बड़ा गुल खिलाएंगी। फिलहाल भाजपा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की "गरीब, युवा, महिला और किसान" जातियों को साधने के लिए व्यापक तैयारियां शुरू कर दी हैं।

PunjabKesari

राजनीतिक जानकारों का मानना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस तरह से इन चार वर्गों को साधने की तैयारी की है, इससे न सिर्फ जातीयता के समीकरण सधेंगे, बल्कि इन वर्गों के लोगों को जोड़ने का यह बड़ा फॉर्मूला भी सेट किया गया है। इन राज्यों में चुनाव पीएम मोदी के चेहरे पर लड़ा गया और 'मोदी की गारंटी' का असर सबसे अधिक देखने को मिला। मोदी की गारंटी इस चुनाव में विपक्ष के फ्री वादे पर भारी पड़ती हुई दिखाई दी। ऐसे में सवाल है कि क्या पीएम मोदी अपने लोकप्रियता के शिखर पर पहुंच गए हैं।

PunjabKesari

इन चार वर्गों से होगी गेम चेंज

राजनीतिक विश्लेषक प्रभाकर का मानना है कि प्रधानमंत्री मोदी का इन वर्गों का जिक्र करना तब और महत्वपूर्ण हो जाता है, जब देश में जातिगत जनगणना की बात तेजी से आगे बढ़ रही हो। और तो और बिहार में जातिगत जनगणना के आंकड़े जारी होने के बाद उसके आधार पर नया आरक्षण भी लागू कर दिया जाना, अन्य पार्टियों के लिए सियासी रूप से बड़ा चैलेंज देने जैसा है। उन्होंने कहा कि दलितों से लेकर आदिवासियों और मुसलमानों से पिछड़ा समेत सवर्णों तक में युवा, महिला, गरीब और किसान होते हैं।

PunjabKesari

फ्री के वादो से नहीं काम से...

भाजपा ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि राज्य में सरकारें फ्री के वादों से नहीं, बल्कि काम के दम पर बनती हैं। उन्होंने कहा कि I.N.D.I.A में शामिल दलों को यह समझने की जरूरत है कि कि वह अभी भी बीजेपी के साथ सीधे मुकाबले में नहीं टिक सकती है। तीन राज्यों में बीजेपी की जीत से इस गठबंधन के भविष्य और कांग्रेस पार्टी के कद पर असर पड़ना तय माना जा रहा है। भाजपा का मुकाबला करने के लिए मुफ्त सुविधाएं पर्याप्त नहीं हैं विपक्षी दलों, खासकर कांग्रेस का यह विचार कि मुफ्त सुविधाएं ही बीजेपी के हिंदुत्व-राष्ट्रवाद का एकमात्र उपाय नहीं है। कांग्रेस को मोदी के लिए एक वास्तविक योजना बनानी होगी।

Related Story

India

397/4

50.0

New Zealand

327/10

48.5

India win by 70 runs

RR 7.94
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!