Movie Review: सच और झूठ के मायाजाल में फंसा देगी पंकज त्रिपाठी की Kadak Singh, जबरदस्त है क्लाइमैक्स

Updated: 08 Dec, 2023 10:17 AM

pankaj tripathi starrer kadak singh review in hindi

यहां पढ़ें कैसी है पकंज त्रिपाठी की "कड़क सिंह"...

फिल्म: कड़क सिंह (Kadak Singh)
निर्देशक : अनिरूद्व रॉय चौधरी (Aniruddha Roy Chowdhury)
 स्टारकास्ट: पंकज त्रिपाठी (Pankaj Tripathi), संजना सांघी (Sanjana Sanghi), पावर्थी थिरोवोथु (Pavarthy Thirovothu), जया एहसान (Jaya Ahsan), दलीप शंकर (Dilip Shankar)
स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म : जी5 
रेटिंग : 3.5 

Kadak Singh: वित्तीय अपराधविभाग का एक बेहतरीन ऑफिसर भूलने की बीमारी से ग्रसित होकर कैसे हॉस्पिटल पहुंच जाता है और कैसे उससे जुड़े पारिवारिक और पेशेवर व्यक्ति अपने-अपने नजरिए से उसे याद दिलाने का प्रयास करते हैं कि वो कैसे हॉस्पिटल आया। इन्हीं रहस्यों और तानों-बानों पर बुनी फिल्म 'कड़क सिंह' 8 दिसंबर को ज़ी5 पर स्ट्रीम हो गई है। 'कड़क सिंह' का प्रीमियर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया में हो चुका है और अपनी दमदार कहानी और शानदार कलाकारों के दम पर पहले ही ख्याति बटोर चुकी है।  

PunjabKesari

कहानी 
ए. के. त्रिपाठी उर्फ कड़क सिंह (पंकज त्रिपाठी) वित्तीय अपराध के विभाग में एक अधिकारी हैं और एक दिन जब उसकी आंख खुलती है तो वह अपने आपको हॉस्पिटल में पाता है। उसको धीरे-धीरे याद आता है कि उसकी पत्नी है और एक बेटा। वह इस बात से बिलकुल अनजान है कि उसकी एक बेटी साक्षी (संजना सांघी) भी है। हॉस्पिटल मेंं साक्षी अपने पिता को बताती है कि वो हॉस्पिटल में कैसे पहुंचे। दूसरी ओर कड़क सिंह की गर्लफ्रेंड नैना (जया अहसान) बताती है कि उनकी भूलने की बीमारी की असली वजह क्याहै।

कड़क सिंह का बॉस त्यागी (दलीप शंकर) उसे उसकी पेशेवर दुनिया से जुड़ी बातें बताता है।  इस तरह हॉस्पिटल में यह सभी किरदार अपने-अपने ढंग से उसकी याद्दाश्त वापस लाने का प्रयास कर रहे हैं और इन सब का प्रयास उसे और भी उलझा कर रख देताहै। इस पहेली को सुलझाने में कड़क सिंह हॉस्पिटल की एक नर्स मिस (पावर्थी थिरोवोथु) की मदद लेता है। क्या कड़क सिंह इस पहेली को सुलझा पाएगा। क्या वो अपनी भूलने की बीमारी की असली वजह जान पाएगा। क्या इन सबके पीछे कोई और रहस्य है। इन सब के जवाब आपको फिल्म देखकर ही पता चलेंगे।

PunjabKesari

एक्टिंग 
फिल्म में पंकज त्रिपाठी ने ए. के उर्फ कड़क सिंह का किरदार बखूबी निभाया है। हर एक नई फिल्म के साथ उनके काम मेंं एक नया निखार देखने को मिलता है। यहां भी एक कत्र्यनिष्ठ और अपरोध बोध से पीडित पिता की किरदार उन्होंने बखूूबी पेश किया है। अपने हाव भाव का प्रदर्शन करने मेंं वे कहीं भी उन्नीस नजर हीं आए। संजना सांघी ने भी अच्छा अभिनय किया है और उनके अभिनय में भी अनुभव की झलक साफ देखी जा सकती है। वे दिखने में जहां खूबसूरत लगी हैं चेहरे पर परिस्थितयों के हिसाब से हावभाव व्यक्त करने में भी पीछे नहीं रही हैं। बंगाली अभिनेत्री जया अहसान की यह पहली हिंदी फिल्म है लेकिन उन्होंने अपने किरदार के साथ पूरा न्याय किया है। उन्हें देखकर नहीं लगता कि यह उनकी पहली हिंदी फिल्म है। बाकी सपोर्टिंग कलाकारों ने भी अपनी शानदार एक्टिंग से फिल्म को पूरी तरह सपोर्ट किया है।  

PunjabKesari

निर्देशन 
शिप के कप्तान के रूप में फिल्म के निर्देशक अनिरूद्व रॉय चौधरी ने बड़ी ही कुशलता और निपुणता से यह काम किया है। अनिरूद्व एक अनुभवी निर्देशक हैं जिनकी फिल्म पिंक कमर्शियली और क्रिटिकली रूप से हिट साबित हुई थी। कड़क सिंह की कहानी की गंभीरता को देखते हुए उन्होंने फिल्म को कहीं भी कमजोर नहीं पड़ने दिया है। फिल्म का थ्रिल चर्म पर दिखाया गया है जो दर्शकों को काफी पसंद आएगा। फिल्म की एडिटिंग भी स्टीक की गई है। फिल्म में चिट फंड जैसे घोटाले भी दिखाए गए हैं और इनका आम आदमी के जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव को भी दिखाया गया है।  

म्यूजिक 
फिल्म के गीत तनवीर गाजी ने लिखे हैं और संगीत दिया है शांतनु मोयत्रा ने। फिल्म का बैकग्राउंंड म्यूजिक शानदार है और कहानी के साथ बहुत अच्छा लगता है। फिल्म के गीतों को अपनी आवाज़ दी है पंकज त्रिपाठी, श्रेया घोषाल और पॉपन ने। फिल्म के गीत भी सुनने में अच्छे हैं।

Related Story

India

397/4

50.0

New Zealand

327/10

48.5

India win by 70 runs

RR 7.94
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!