Jyeshta month 2022: ज्येष्ठ मास का शुक्ल पक्ष प्रारम्भ पाएं ‘लक्ष्मी जी’ की कृपा

Edited By Niyati Bhandari, Updated: 01 Jun, 2022 08:47 AM

jyeshta month

ज्येष्ठ यानी जेठ मास का शुक्ल पक्ष आरंभ हो चुका है। यह मास भगवान विष्णु तथा लक्ष्मी जी के प्रिय मास में से एक है। ज्येष्ठ शुक्ल के बारे में शास्त्रों में भी बताया

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
Jyeshta month 2022:
ज्येष्ठ यानी जेठ मास का शुक्ल पक्ष आरंभ हो चुका है। यह मास भगवान विष्णु तथा लक्ष्मी जी के प्रिय मास में से एक है। ज्येष्ठ शुक्ल के बारे में शास्त्रों में भी बताया गया है। 

Jyeshta month 2022 start and end date ज्येष्ठ मास कब से कब तक है : पंचांग के अनुसार ज्येष्ठ मास 17 मई को आरंभ हुआ था। इसका समापन 14 जून को होगा। 31 मई से इस मास का शुक्ल पक्ष आरंभ हो चुका है।

Jyeshta Month 2022 shukla paksha Vrat Festivals List ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष के प्रमुख व्रत और त्यौहार : 3 जून शुक्रवार को विनायक चतुर्थी, 7 जुलाई गुरुवार को मासिक दुर्गाष्टमी व्रत, 9 जून गुरुवार को गंगा दशहरा, 10 जून शुक्रवार को निर्जला एकादशी, 12 जून रविवार को प्रदोष व्रत और 14 जून मंगलवार को ज्येष्ठ पूर्णिमा व्रत व वट पूर्णिमा व्रत होगा।

PunjabKesari Jyeshta month 2022, Jyeshta month, jyeshta month 2022 start and end date

Benefits of Worshipping Mahalakshmi लक्ष्मी जी की पूजा का महत्व 
ज्येष्ठ मास में लक्ष्मी जी की पूजा का विशेष महत्व है। इस मास के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाले शुक्रवार के दिन लक्ष्मी जी की विधिपूर्वक पूजा करने से जीवन में सुख-समृद्धि आती है। जिन लोगों के जीवन में धन संबंधी कोई भी परेशानी है, उन्हें ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष में लक्ष्मी जी की पूजा करने से उत्तम फल प्राप्त होता है।

इस बार ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी जिसे निर्जला एकादशी कहा जाता है, शुक्रवार के दिन पड़ रही है। निर्जला एकादशी को सभी एकादशी व्रतों में सबसे कठिन माना गया है। इस व्रत को नियम पूर्वक करने से भगवान विष्णु और लक्ष्मी जी की विशेष कृपा प्राप्त होती है।

PunjabKesari Jyeshta month 2022, Jyeshta month, jyeshta month 2022 start and end date

Laxmi ji gets angry with these deeds इन कामों से लक्ष्मी जी हो जाती हैं नाराज
ज्येष्ठ मास में यदि लक्ष्मी जी का आशीर्वाद पाना चाहते हैं तो इन 5 कामों को भूल कर भी न करें : 

स्वच्छता न रखना : लक्ष्मी जी को स्वच्छता अधिक प्रिय है इसलिए गदंगी से दूर रहें। घर को स्वच्छ रखें। स्वच्छ वस्त्र धारण करें। घर में मकड़ी के जाले नहीं होने चाहिएं।

अन्न का अनादर करना : लक्ष्मी जी उस व्यक्ति को अपना आशीर्वाद नहीं देती हैं जो अन्न और जल का आदर नहीं करते। भोजन करते समय जूठा अन्न नहीं छोड़ना चाहिए। जल का महत्व समझना चाहिए। जल का दान करने से लक्ष्मी जी प्रसन्न होती हैं।

लोभ : लक्ष्मी जी को लोभ करने वाले लोग पसंद नहीं हैं। जो लोग दूसरों के धन का लोभ करते हैं, उन्हें लक्ष्मी जी छोड़कर चली जाती हैं।

क्रोध और अहंकार : लक्ष्मी जी को क्रोध और अहंकार करने वाले लोग कतई पसंद नहीं हैं।

आलस : आलसी व्यक्तियों को भी लक्ष्मी जी अपना आशीर्वाद नहीं देती हैं इसलिए आलस का त्याग करना चाहिए।

PunjabKesari Jyeshta month 2022, Jyeshta month, jyeshta month 2022 start and end date

England

India

Match will be start at 08 Jul,2022 12:00 AM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!