इन राशि वालों को नहीं पहनना चाहिए मोती नहीं तो हो जाएंगे कंगाल

Edited By Jyoti,Updated: 05 Aug, 2022 02:23 PM

wear pearls according to jyotish shastra

प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में आने वाली समस्याओं का संबंध किसी न किसी ग्रह से होता है और व्यक्ति इन परेशानियों का निवारण करने के लिए ग्रहों के रत्न भी धारण करता है और इसी बीच में आज हम बात करेंगे। चंद्रमा के रत्न मोती की। जी हां दोस्तों, चूंकि ये...

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में आने वाली समस्याओं का संबंध किसी न किसी ग्रह से होता है और व्यक्ति इन परेशानियों का निवारण करने के लिए ग्रहों के रत्न भी धारण करता है और इसी बीच में आज हम बात करेंगे। चंद्रमा के रत्न मोती की। जी हां, चूंकि ये चंद्रमा का रत्न है इसलिए इस रत्न का स्वभाव चंद्रमा की तरह शांत, शीतल है और इसका प्रभाव सीधा मन पर पड़ता है। तो वहीं ज्योतिष के मुताबिक अलग-अलग लग्नों के हिसाब से किसी के लिए मोती पहनना शुभ होता है। तो किसी के लिए अशुभ अगर कोई व्यक्ति मोती धारण करता है जिसके लिए मोती पहनना अशुभ हो तो उसे जिंदगी बहुत सी आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। तो ऐसे में आज आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने जा रहे हैं कि किन्हें भूलकर भी मोती धारण नहीं करना चाहिए। 
PunjabKesari Wear pearls, Motiwear, Wear Pearls According To Jyotish Shastra, Jyotish Gyan, Moon, Chandrama, Astrology, Astrology in Hindi, Astrology Gyan, Astrology Basic Facts, Zodiac signs, Dharm
सबसे पहले जानते हैं मोती कब और किस दिन धारण करना चाहिए-
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, मोती को चांदी की अंगूठी में हाथ की कनिष्ठा उंगली यानि कि सबसे छोटी उंगली में शुक्ल पक्ष के सोमवार की रात को धारण करना चाहिए। आप इसे पूर्णिमा के दिन भी धारण कर सकते हैं। इसका आपको बेहद ही शुभ परिणाम मिलेगा।

आइए अब जानते हैं किन राशि वालों को मोती धारण नहीं करना चाहिए-

वृष राशि
इस लग्न वालों के लिए चन्द्रमा तीसरे घर का मालिक होता है, जो कि अकारक माना जाता है। साथ ही इस राशि का स्वामी शुक्र ग्रह है। अगर जन्मपत्रिका में चन्द्रमा लग्न में न बैठा हो तो वृष राशि वालों को मोती नहीं पहनना चाहिए। अगर वृष राशि के जातक मोती धारण करते हैं तो ऐसा करने से आपके भाई-बहनों से संबंध खराब हो जाएंगे साथ ही आपको आर्थिक तंगी का भी सामना करना पड़ सकता है।
 
मिथुन राशि

इन लग्न वालों के लिए चंद्रमा दूसरे घर का मालिक होता है। जो कि मारकेश है। तो ऐसे में ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक मिथुन राशि वालों के लिए मोती धारण करना अशुभ माना गया है। अगर इस राशि के जातक मोती धारण करते हैं तो इन्हें मानिसक तनाव का सामना करना पड़ सकता है। इसके साथ ही आप अपने लक्ष्य से भी भटक सकते हैं।

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं । अपनी जन्म तिथि अपने नाम , जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर वाट्स ऐप करें


PunjabKesari
कन्या राशि
शास्त्रों के अनुसार कन्या लग्न वालों के लिए चंद्रमा कुंडली में ग्यारहवें स्थान का मालिक होता है। जो कि अकारक स्थान माना गया है। तो इसलिए कन्या राशि वालों के लिए मोती धारण करना शुभ नहीं होता। अगर मोती पहनते हैं तो हो सकता है अचानक आपकी आमदनी बढ़ जाएं, लेकिन जो मुश्किलें आएंगी, वो उस आमदनी से कहीं ज्यादा होंगी। इसलिए आप मोती न ही पहनें, तो आपके लिए अच्छा होगा।

मकर राशि 
मकर लग्न वालों के लिए चंद्रमा सातवें घर का मालिक होता है। तो वही सातवें घर को सप्तमेश भी कहते हैं, जो कि सप्तमेश मारकेश होता है। तो ऐसे में इस राशि के जातकों को मोती धारण करने से बचना चाहिए। अगर आप मोती पहनते हैं तो आपके मन में गलत ख्याल आएंगे। स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव पड़ेगा। तो जितना हो सके इस राशि के जातक मोती धारण न करें।
 
कुंभ राशि
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंभ लग्न वालों का चन्द्रमा छठे घर का स्वामी होता है, जो कि अकारक है। अगर पहनेंगे तो इसका आपके सेहत पर बुरा प्रभाव तो पड़ेगा ही साथ ही दोस्त भी दुश्मन बन जायेंगे। तो ऐसे में इस राशि के जातक मोती को न ही पहनें।
PunjabKesari Wear pearls, Motiwear, Wear Pearls According To Jyotish Shastra, Jyotish Gyan, Moon, Chandrama, Astrology, Astrology in Hindi, Astrology Gyan, Astrology Basic Facts, Zodiac signs, Dharm
इन राशियों के लिए मोती पहनना होता है सबसे शुभ- 
ज्योतिष के मुताबिक, मेष, कर्क, तुला, और मीन लग्न के लिए मोती पहनना सबसे शुभ माना गया है। तो वही सिंह, वृश्चिक और धनु लग्न वाले विशेष दशाओं और ग्रहों की स्थितियों में मोती धारण कर सकते हैं। 

इसके अलावा बता दें कि मोती ऐसे लोगों को कभी धारण नहीं करना चाहिए जो अत्यधिक भावुक होते हैं या जिन लोगों में क्रोध बहुत होता है। यदि ऐसे लोग इन रत्नों को धारण करते हैं तो उनमें भावनाएं और क्रोध की और बढ़ोतरी होने लगती है।
 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!