इस मंदिर में कदम रखन के ख्याल मात्र से होने लगती है इच्छाएं पूरीं!

Edited By Jyoti, Updated: 07 Jun, 2022 05:11 PM

maheshwari mata mandir hamirpur

प्रत्येक व्यक्ति मन में कई सारी इच्छाएं लेकर जीवन जीता है। कुछ इच्छाएं तो वो अपने दम पर पूरी कर लेता है लेकिन कुछ मनोवांछित इच्छाएं ऐसी होती है जिनके लिए मां के दरबार यानि मां की शरण में जाना पड़ता है।

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
प्रत्येक व्यक्ति मन में कई सारी इच्छाएं लेकर जीवन जीता है। कुछ इच्छाएं तो वो अपने दम पर पूरी कर लेता है लेकिन कुछ मनोवांछित इच्छाएं ऐसी होती है जिनके लिए मां के दरबार यानि मां की शरण में जाना पड़ता है। तो ऐसे में आज हम आपको बताने वाले वाले हैं ऐसे मंदिर के बारे में जहां सिर्फ कदम रखने से ही इच्छाओं की पूर्ति होने का एहसास होने लगता है। तो आइए जानते हैं कहां है ये मंदिर- 

बता दें ये अद्भुत और चमत्कारिक मंदिर हमीरपुर जिले से मात्र 50 किलोमीटर दूर जलालपुर क्षेत्र के भेड़ी डांडा में स्थित है। हज़ारों वर्ष पुराने इस मंदिर का इतिहास बहुत ही हैरत में डाल देने वाला है। साथ ही आपको बता दें कि इस मंदिर को उनके भक्त मां माहेश्वरी मंदिर के नाम से जानते हैं तो चलिए अब बताते हैं आपको मंदिर का इतिहास।

मां महेश्वरी का मंदिर मां दुर्गा के 51 शक्तिपीठों में एक है। यहां पर मां महेश्वरी की पत्थर की शिला बेतवा नदी किनारे मिली थी और फिर शिला के मिलते ही मां के भक्तों ने वहां पर मंदिर का निर्माण करवाया। जिसके बाद से आज तक देवी मां की ख्याति दूर-दूर तक फैली है। इस दौरान दस दिनों तक मंदिर परिसर में मेला लगता है। भेड़ी गांव के बुजुर्गों की माने तो इस मंदिर का कोई स्पष्ट उल्लेख नहीं है। इसी के साथ बता दें कि सैकड़ों वर्ष पहला बेतवा नदी किनारे घना जंगल हुआ करता था। तब जंगल में मिट्टी खोदते समय मां महेश्वरी प्रकट हुई थी। जिसके बाद जहां दिन में लोग जाने से कतराते थे वहां माता की कृपा से यह स्थान लोगों की आत्मशांति के साथ ही मनोकामना पूरी करने के लिए विख्यात हो गया।

मंदिर में श्रद्धा व आस्था से पूजन अर्चन करने वालों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। यहां पर मनोकामनाओं के पूरा होने पर लोग घंटा, शेर, छत्र आदि चढ़ाते हैं और बच्चों के मुंडन व कनछेदन संस्कार भी कराते हैं। यहां मां महेश्वरी का 24 घंटे अखंड दीप प्रज्ज्वलित रहता है।

इसके अलावा बताया जाता है कि 22 शक्तिपीठ कहलाने वाले इस मां के इस पावन धाम में नीचे की ओर जाकर एक कुंड है। उस कुंड को लेकर मान्यता है कि यहां पर जो भी सच्चे मन आता है और इस कुंड का जल पीता है तो उसकी सभी शारीरिक परेशानियां खत्म हो जाती हैं। तो वहीं कई लोगों का मानना है कि जिसको भी इस कुंड के पास से लौंग नींबू जैसी कोई चीज़ आपको मिल जाए तो वो इंसान धन्य हो जाता है। 

Related Story

Trending Topics

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!